“अहंकार से भरा है बीजेपी का संकल्प पत्र” – राहुल गाँधी

  • by Hardev Singh
  • April 10, 2019

बीजेपी ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए अपना घोषणापत्र जारी कर दिया है। अपने इस घोषणा पत्र को बीजेपी ने ‘संकल्प पत्र’ नाम दिया है। इस संकल्प पत्र में बीजेपी के कई लोकलुभावन वादे हैं, जिसके अनुसार वो जनता का विश्वास बनाये रखना चाहती है। इससे पहले कांग्रेस के घोषणापत्र जारी करने पर बीजेपी ने उसे ‘ढकोसलापत्र’ कह दिया था, तो अब बीजेपी के घोषणापत्र के नामकरण करने की कांग्रेस की बारी थी। सोमवार, 8 अप्रैल को बीजेपी ने अपना घोषणापत्र जारी किया, तो कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इसे ‘झांसा पत्र’ नाम दे दिया। बीजेपी के संकल्प पत्र पर विपक्ष का वार यहीं नहीं रुका। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी।

भाजपा के घोषणा पत्र पर राहुल गांधी ने ट्वीट करके हमला बोला। उन्होंने लिखा,

‘कांग्रेस का घोषणा पत्र विचार विमर्श के बाद बनाया गया था। लाखों भारतीयों की आवाज को इसमें शामिल किया गया है। इससे जनता को बल मिलेगा। वहीँ, भाजपा का घोषणा पत्र एक बंद कमरे में बनाया गया था। जिसमें एक अलग-थलग पड़ चुके व्यक्ति की आवाज है। यह अदूरदर्शी और अहंकार से भरा है।’

बीजेपी घोषणापत्र जारी करने पर बसपा सुप्रीमो मायावती के निशाने पर भी रही। मायावती ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा, कि भाजपा ने जनता को फिर से गुमराह करने की कोशिश की है। मायावती ने कहा, ‘बीजेपी को संकल्प पत्र जारी करने के बजाए पिछले चुनाव के वादों पर की गई कार्यवाई की रिपोर्ट जनता के सामने प्रस्तुत करनी चाहिए थी। जनता खुद को ठगा सा महसूस कर रही है।’ मायावती ने मुहावरे का उपयोग करते हुए बीजेपी पर तंज कसा। उन्होंने कहा,

‘भाजपा का गरीब विरोधी घोषणापत्र केवल छलावा ही छलावा है। भाजपा को सोचना चाहिए कि काठ की हांडी केवल एक बार चढ़ती है, बार-बार नहीं।’

घोषणापत्र जारी करने पर बीजेपी को घेरने में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव भी पीछे नहीं रहे। अखिलेश यादव ने बीजेपी के संकल्प पत्र को धोखा करार दे दिया। उन्होंने कहा, ‘जब भाजपा ने अपने दो संकल्प पत्रों के वादों को नहीं निभाया, तो अब तीसरे पर कौन विश्वास करेगा।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *