मुस्लिमों से कांग्रेस को वोट न देने की अपील को लेकर मायावती को मिलीं चुनाव आयोग से नोटिस

  • by Hardev Singh
  • April 9, 2019

लोकसभा चुनाव 2019 के चुनावी प्रचार का शोर दिनों दिन बढ़ता जा रहा है। इस शोर के बीच कई सारे नेता जाने-अंजाने चुनाव आचार संहिता के नियमों को लांघने का काम भी कर रहे हैं। चुनाव आयोग के इन नियमों की अनदेखी करने वालों में कई छोटी-बड़ी पार्टियों के नेता शामिल हैं। लेकिन इस सूची में अब बसपा सुप्रीमो मायावती का नाम भी जुड़ गया है।

रविवार, 7 अप्रैल को मायावती ने सहारनपुर के देवबंद में सपा, बसपा और रालोद के महागठबंधन की चुनावी रैली को सम्बोधित किया। इस चुनावी रैली के दौरान मायावती ने देवबंद की मुस्लिम जनता से खुली अपील की। उन्होंने कहा, ‘मैं मुस्लिम समाज के लोगों से कहना चाहती हूं कि कांग्रेस, बीजेपी को टक्कर नहीं दे सकती। उसे तो सिर्फ महागठबंधन ही हरा सकता है। इसलिए मुस्लिम मतदाता कांग्रेस को वोट देकर उसे जाया करने की बजाय महागठबंधन के प्रत्याशियों को एक तरफा वोट दें।’

मायावती के ‘मुस्लिम’ शब्द का इस्तेमाल करने पर भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष जेपीएस राठौर ने चुनाव आयोग से शिकायत की है। राठौर का कहना है कि ‘मायावती द्वारा मुस्लिम जनता से एक राजनीतिक दल को वोट न देने की अपील करना एक धार्मिक उन्माद को फैलाना है।’ उन्होंने आयोग से अपील करते हुए कहा कि यह चुनाव अचार संहिता का खुला उल्लंघन भी है, इसलिए उनके खिलाफ कार्यवाई की जाए।

इस पर यूपी के मुख्य निर्वाचन अधिकारी वेंकटेश्वर लू ने बताया कि मायावती के इस बयान पर आयोग ने जिला प्रशासन से रिपोर्ट तलब करने को कहा है। साथ ही उन्होंने कहा कि मायावती के मुस्लिम शब्द के उपयोग करने पर आयोग को कई शिकायतें मिलीं, जिसके बाद हमने ये कदम उठाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *