February 17, 2019

शर्मनाक: ‘मैं एक लड़की हूं, लेकिन मुझे जानवरों की तरह बेचा और नोचा गया’, फ़रीदाबाद की घटना

  • by Ashutosh Kumar Singh
  • February 6, 2019

फ़रीदाबाद घटना: हरियाणा की छवि हमेशा से ही लड़कियों और महिलाओं के प्रति हमेशा से ही विवादास्पद रही है। और एक बार फ़िर ऐसा ही एक शर्मशार करने वाला उदाहरण फ़िर से सामने आया है।

दरसल मामला हरियाणा के फरीदाबाद का है, जहाँ 17 वर्षीय एक लड़की का आरोप है कि उसे तीन महीनों तक बंधक बनाकर उससे लगातार बलात्कार किया गया। और डेढ़ लाख रुपये में बेच कर उसकी जबरन शादी भी करवाई गई।

पीड़िता ने आरोप लगाते हुए कहा कि 24 अगस्त 2018 की शाम को विनोद उर्फ विनय गुर्जर (जिसको वह दो महीने से जानती थीं और जिसने उससे शादी का वादा किया था) ने पीड़िता को फरीदाबाद के आकाश होटल के बाहर मिलने बुलाया और वहाँ पीड़िता को कार में बैठाकर अपने दफ्तर ले गया। वहां विनोद ने जबरजस्ती उसको शराब पिलाकर उसका बलात्कार किया।

साथ ही पीड़िता ने बताया कि इन तीन महीनों के दौरान उसे अलग-अलग जगहों पर बंधक बनकर रखा गया और नियमित रूप से अलग-अलग लोगों ने बलात्कार किया। इसके साथ ही उसको यातनाएं भी दी गईं।

पीड़िता के अनुसार यह सिलसिला यही नहीं रुका, इसके बाद उसे पलवल के तुमसरा गांव में डेढ़ लाख रुपये में बेचकर जबरन शादी भी करवाई गई।

यह सब दुर्भाग्यपूर्ण और शर्मशार करने वाली आपबीती के बाद, पीड़िता के जो शब्द रहें, उसने सबको मानों अंदर से हिला कर रख दिया, उसने बताया,

“मैं एक लड़की हूं, लेकिन मुझे जानवरों की तरह बेचा और नोचा गया। मेरी शादी भी जबरन करवाई गई। जिससे शादी करवाई, उसने और उसके छोटे भाई ने मिलकर मेरा बलात्कार किया। दोनों भाई बारी-बारी से मेरा बलात्कार करते थे।”

पुलिस नहीं कर रही मदद

इस दौरान पीड़िता के परिजन बताते हैं कि पीड़िता 24 अगस्त की शाम को घर से बाहर गई थी लेकिन उसके वापस न लौटने पर परिवार ने फरीदाबाद कोतवाली में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई।

पीड़िता की माँ के अनुसार,

“उनके पति मैकेनिक का काम करते हैं। और गरीब वर्ग से होने के कारण जब अगस्त की उस शाम को पीड़िता नहीं लौटी तब उसी शाम हम फरीदाबाद कोतवाली में शिकायत दर्ज करवाने पहुँचें, लेकिन तब पुलिस ने शिकायत दर्ज न करते हुए, किसी भी प्रकार की करवाई से मना कर दिया। हालाँकि बाद में तमाम कोशिशों के बाद पुलिस ने 15 सितंबर को एफआईआर दर्ज की।”

इस दौरान 20 नवंबर को उनकी बेटी पलवल में मिलीं। लेकिन आपबीती बताने और आरोपियों की पहचान के बाद भी पुलिस कोई कार्यवाई नहीं कर रही है।

इसके साथ ही पीड़िता की मां ने बताया,

“आरोपी फरीदाबाद के रसूखदार परिवारों से हैं, जिसके चलते पुलिस कार्यवाई में आनाकानी कर रही है, और साथ ही आरोपी हमनें भी धमका रहें हैं”

“आरोपी विनय का जीजा, जो टीगांव का सरपंच है, वह भी लगातार धमकियाँ दे रहा है।”

“एक बार पुलिस ने निशानदेही करने के लिए फरीदाबाद थाने बुलाया और इसके बाद हमारी गैर-मौजूदगी में 10-15 आदमी हमारे घर पलवल पहुंच गए। एक बार ही नहीं बल्कि जब-जब हम पुलिस के पास मामले के बारे में बात करने जाते थे, तो उसी समय 20-25 आदमी हमारे घर पहुंच जाते।”

इसके साथ ही परिवार ने बताया कि उन्होंने जब फरीदाबाद कोतवाली में एफआईआर और मेडिकल जांच की कॉपी मांगी तब इंस्पेक्टर ने उन्हें वह प्रदान करने से इनकार कर दिया।

इसके साथ ही पीड़िता के परिवार ने कहा कि उन्हें उनकी बेटी की सुरक्षा को लेकर काफी चिंता रहती है। पुलिस का रवैया इस मामले में बेहद लचर है और उनकी न्याय देने की नीयत नहीं दिखती।

हरियाणा में नया नहीं है ऐसा मामला, साथ ही ‘मोल की बहू’ का भी चलन काफी जोरो पर

यह जग-जाहिर है कि हरियाणा में लड़कियों की दशा काफी दयनीय है। बीते एक दशक में राज्य में बाहरी राज्यों से लड़कियां लाकर या जबरन शादी करने का चलन अप्रत्याशित रूप से बढ़ा है।

इसके लिए हरियाणा में ‘मोल की बहू’ या ‘पारो’ शब्द का इस्तेमाल किया जाता है। द वायर की रिपोर्ट के मुताबिक 2013 के एक अध्ययन के एक अनुसार 10,000 घरों पर किए गए एक सर्वे में करीब 9,000 शादीशुदा महिलाएं बाहरी राज्यों से लाई गई पायी गईं।

हम आपको बता दें कि इस तरह की शादियां और महिलाओं की तस्करी भारतीय कानून की नजर में अपराध की श्रेणी में आती हैं। लेकिन यह फिर भी ऐसा लगातार बढ़ रहा है।

और बढे भी क्यूँ न? जब हम अक्सर देखते हैं कि कोई न कोई नेता चुनावों तक में लड़कों की शादी करवाने वाले विषय को लेकर लोगों से खुलेआम वादा तक करते हैं।

अगर यह सब बंद करना है तो किसी एक को ही नहीं बल्कि पुरे समाज को बदलने की जरूरत है। और इसके लिए जरूरी है कि राज्य में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर नियम कड़े किये जाए और साथ ही पुलिस पर न्याय दिलवाने हेतु दवाब बनाया जाए। और समाज भी ऐसी आरोपियों को सजा दिलवाने  हेतु एक साथ खड़ा हो।

सोर्स: द वायर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *